Love Shayri SMS - Page 49

3 years ago

puchtey hai log mujhsai ki shayri kyu chor
di___!!
mai kese kahu unsey??
ki dard ab lafzon me bayaa nhi hota___!!

I Like SMS - Like: 424 - SMS Length: 118
Tags: Love Shayri -
3 years ago

Kisi ko pane ke liye,hamari sari khoobiya bhi kam padh jati hai,
Par ye bhi sach hai kisi ko khone kliye ek kami hee kafi hai... :')

I Like SMS - Like: 458 - SMS Length: 133
Tags: Love Shayri -
3 years ago

Parwaah karne wale aksar rula jate he.....
Apna keh kar paraya kar jate he....
Wafa jitni v karo koi fark nai padta....
Mujhe mat chhorna keh kar khud hi chhor jate he.....!!!

I Like SMS - Like: 513 - SMS Length: 178
Tags: Love Shayri -
3 years ago

Nahi chaahiye Teri dukaan se kuch Bi

Aye ishq.

Teri har cheez mein milaawat hai bewafai ki.

I Like SMS - Like: 331 - SMS Length: 97
Tags: Love Shayri -
3 years ago

Deewane-e-ishq mein ek khata ho gyi

Tujhe dil mein jo basaya to dunia kafa ho gyi…

I Like SMS - Like: 287 - SMS Length: 87
Tags: Love Shayri -
3 years ago

Tum udas udas se lagte ho,
Koi tarkeeb batao manane ki,
Hum zindagi girvi rakh sakte he
Tum kimat batao muskurane ki

I Like SMS - Like: 403 - SMS Length: 119
Tags: Love Shayri -
3 years ago

शायद ज़िन्दगी बदल रही है!! जब मैं छोटा था, शायद दुनिया बहुत बड़ी हुआ
करती थी..
मुझे याद है मेरे घर से "स्कूल" तक का वो रास्ता,
क्या क्या नहीं था
वहां, चाट के ठेले, जलेबी की दुकान, बर्फ के गोले,
सब कुछ, अब वहां "मोबाइल शॉप", "विडियो पार्लर" हैं, फिर
भी सब सूना है..
शायद अब दुनिया सिमट रही है... जब मैं छोटा था, शायद शाम बहुत लम्बी हुआ करती थी.
मैं हाथ में पतंग की डोर पकडे, घंटो करता था,
वो लम्बी "साइकिल रेस",
वो बचपन के खेल, वो हर शाम थक के चूर हो जाना,
अब शाम नहीं होती, दिन ढलता है और सीधे रात
हो जाती है. शायद वक्त सिमट रहा है.. जब मैं छोटा था, शायद दोस्ती बहुत गहरी हुआ करती थी,
दिन भर वो हुज़ोम बनाकर, वो दोस्तों के घर का खाना,
वो लड़कियों की
बातें, वो साथ रोना, अब भी मेरे कई दोस्त हैं,
पर जाने कहाँ है, जब भी "ट्रेफिक " पे मिलते हैं
"हाई" करते हैं, और अपने अपने रास्ते चल देते हैं,
होली, दिवाली, जन्मदिन , नए साल पर बस SMS आ जाते
हैं
शायद अब रिश्ते बदल रहें हैं.. जब मैं छोटा था, तब खेल भी अजीब हुआ करते थे,
छुपन छुपाई, लंगडी टांग, पोषम पा, कट थे केक,
टिप्पी टीपी टाप.
अब इन्टरनेट, ऑफिस, हिल्म्स, से फुर्सत
ही नहीं मिलती..
शायद ज़िन्दगी बदल रही है. जिंदगी का सबसे बड़ा सच यही है.. जो अक्सर
कबरिस्तान के बाहर बोर्ड पर लिखा होता है.
"मंजिल तो यही थी, बस जिंदगी गुज़र
गयी मेरी यहाँ आते आते " जिंदगी का लम्हा बहुत छोटा सा है.
कल की कोई बुनियाद नहीं है
और आने वाला कल सिर्फ सपने मैं ही हैं.
अब बच गए इस पल मैं..
तमन्नाओ से भरे इस जिंदगी मैं हम सिर्फ भाग रहे
हैं..

I Like SMS - Like: 764 - SMS Length: 3377
Tags: Love Shayri -
3 years ago

Tu Kiya Jaane Hamare Pyar Ki Gehraai
Ko...!
"Jaan"
Hum Sath Hote Hain To Wafa Krte Hain
Aur Jab Door Hote Hain To Dua
Krte hain...!

I Like SMS - Like: 463 - SMS Length: 136
Tags: Love Shayri -
3 years ago

Uski Hasrat Ko Mere Dil Mein Likhne
Wale...!!!

Kaash Usko Bhi Meri Kismat Mein
Likha Hota..

I Like SMS - Like: 304 - SMS Length: 96
Tags: Love Shayri -
3 years ago

Pyar nibhane ka itna daava na karo...
Kisi ne mujhe chhoda hai kasam khane k baad.!!

I Like SMS - Like: 326 - SMS Length: 85
Tags: Love Shayri -
Previous 47 48 49 50 51 Next
Page(49/341)
Jump to Page

Language

Arrow_dark English SMS
Arrow_dark Hindi SMS
Arrow_dark All SMS